Posts

क्यों खास है इस बार का सावन

Image
हिंदूधर्म केअनुसार, सावनकोवर्षकासबसेपवित्रमहीनामानाजाताहै                                                                                                          

Sawan 2019: 17 जुलाईसे 15 अगस्ततकशिवजीकापवित्रसावनकापवित्रमाहशुरुहोचुकाहै।जोकि  15 अगस्ततकहै।हिंदूधर्मकेलिएजुलाईमाहबहुतहीखासहै।इसमाहकईमहत्वपूर्णव्रतऔरत्योहारकेसाथसावनपड़रहाहै।जिसकेसाथहीभगवानशिवकीआराधनाहोनाशुरुहोजाएगी।

मानाजाताहैकिजोभक्तइसपावनमाहमेंमातापार्वतीऔरभगवानशिवकीपूजा-अर्चनाकरतेहैं।उनकेऊपरभोलेबाबाकीहमेशाकृपाबनीरहतीहै।इसबारसावनकापहलासोमवार 22 जुलाईगए थे।वहीं 15 अगस्तकोपूर्णिमाकेदिननकासमापनहोगा।

क्योंखासहैइसबारकासावन?

इसबारसावनकेमहीनेकीखासबातयहहैकिइसबारसावनके 4 सोमवारहोंगे।सावनकाअंतिमदिन 15 अगस्तकोहै।इसदिनस्वतंत्रततादिवसकेसाथरक्षाबंधनभीहै।

सबसे पहले आप और आपके परिवार को मेरी तरफ से  कि महादेव के पसंदीदा महीने, रक्षाबंधन और साथ में स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं !! जय हिन्द !! वंदेमातरम् !! भारत माता की जय !!

सावनकामहत्व

हिन्दूधर्मकीपौराणिकमान्यताकेअनुसारसावनमहीनेकोदेवोंकेदेवमहादेवभगवानशंकरकामहीनामानाजाताहै। भगवानशि…

महामृत्युंजय मन्त्रः

Image
                        ॐ त्र्यम्बकंयजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् उर्वारुकमिवबन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय
मामृतात्

जब भगवान शिव ने मगरमच्छ बनकर ली पार्वती की परीक्षा

Image
माता पार्वती शिव जी को पति रूप में प्राप्त करने के लिए कर रही थीं। उनके तप को देकर देवताओं ने शिव जी से देवी की मनोकामना पूर्ण करने की प्रार्थना की।  शिव जी ने पार्वती जी की परीक्षा लेने सप्तर्षियों को भेजा।
सप्तर्षियों ने शिव जी के सैकड़ों अवगुण गिनाए पर पार्वती जी को के अलावा किसी और से विवाह मंजूर न था। विवाह से पहले सभी वर अपनी भावी पत्नी को लेकर आश्वस्त होना चाहते हैं। इसलिए शिव जी ने स्वयं भी पार्वती की परीक्षा लेने की ठानी। भगवान शंकर प्रकट हुए और पार्वती को वरदान देकर अंतर्ध्यान हुए। इतने में जहां वह तप कर रही थीं, वही पास में तालाब में मगरमच्छ ने एक लड़के को पकड़ लिया। लड़का जान बचाने के लिए चिल्लाने लगा। पार्वती जी से उस बच्चे की चीख सुनी न गई। द्रवित हृदय होकर वह तालाब पर पहुंचीं। देखती हैं कि मगरमच्छलड़के को तालाब के अंदर खींचकर ले जा रहा है। लड़के ने देवी को देखकर कहा- मेरी न तो मां है न बाप, न कोई मित्र... माता आप मेरी रक्षा करें.. . पार्वती जी ने कहा- हे ग्राह ! इस लडके को छोड़ दो। मगरमच्छ बोला- दिन के छठे पहर में जो मुझे मिलता है, उसे अपना आहार समझ …

राधा श्याम

Image

ॐ श्री गणेशाय नमः

Image
श्रीश्रीगणेशायनमःश्री
वक्रतुण्डमहाकाय सूर्यकोटिसमप्रभनिर्विघ्नंकुरुमेदेवसर्वकार्येषुसर्वदा॥श्रीश्रीगणेशायनमःश्री